कविता वैक्सीन का भारत | Kavita Vaccine Ka Bharat

आप पढ़ रहे हैं ( Kavita Vaccine Ka Bharat ) कविता वैक्सीन का भारत :-

कविता वैक्सीन का भारत

कविता वैक्सीन का भारत

इंतज़ार की घड़ियाँ बीती, दूर हुआ काला साया
टीकाकरण प्रारंभ हो गया, भारत में कोवैक्सीन आया

नवनिर्माण के भारत में,हम टीकाकरण करायेगें
दो गज दूरी के झंझट से,मिलकर मुक्ति पायेगें

आफ़िस कॉलेज खुलेगें सारे,बच्चे भी स्कूल को जायेगें
जब भी जरुरत होगी, हम चेहरे पर मास्क लगायेगें

हाथ मिलाना आलिंगन का, दौर पुनः चालू होगा
सैनिटाइज़र का चरणामृत, और नहीं लेना होगा

वृद्धजनों की सुबह सैर, पुनः शुरू हो जायेगी
पार्क थियेटर, बाजारों में रौनक फिर बढ़ जायेगी

घर पर योगा बहुत हो गया, अब हम जिम जा पायेगें
मुखड़े की रंगत के ख़ातिर, पार्लर की और मुड जायेगें

धूम मचेगी शादियों में, सबसे आने की विनती होगी
सप्रेम विनय आमंत्रण पर, ना लोगों की गिनती होगी

इतिहास में पहला अवसर आया, जब पटरी पर ना रेल चली
टीकाकरण करा लो भैया, द्वार-द्वार और गली-गली

विश्व भ्रमण के सपने को, हम फिर से पंख लगायेंगे
पाप-पुण्य का लेखा करने, चारों धाम घूम आयेगें

वर्क फ्रॉम होम की बोरियत से, मुक्ति फिर मिल जायेगी
निर्जन ऑफिस के टेबिल पर, फाइल फिर खुल जायेगी

कोरोना का अभिशाप, अब और ना हमें सतायेगा
चहुँ और फिर खुशियाँ होगी,कोवैक्सीन का भारत आएगा

प्रथम चरण आरम्भ हो चुका, कोरोना को भागने का
चलो उठो संकल्प साथ लो, कोवैक्सीन का भारत बनाने का

अगले चरण के टीकाकरण में, दोनों डोज लगवायेगें
मेले और थियेटर में जाकर, फिर हम भीड़ बढ़ायेगे

हम सब मिलकर झुमेगें, खुशियों का जश्न मनायेगें
लम्बी चुभती रात ढलेगी, उम्मीदों के बादल छायेगें

भारत के अथक प्रयास उन्नति की और ले जायेगें
कोवैक्सीन निर्माण हो गया, फिर अच्छे दिन आएंगे

पढ़िए :- कोरोना पर दोहे हिंदी में | कोरोना से बाचाव पर दोहे


यह कविता हमें भेजी है निधि श्रीवास्तव जी ने। ऐसी ही और भी कविताएं उनके ब्लॉग “शब्द मोहिनी हिंदी कवितायेँ” में पढ़ सकते हैं।

“ कविता वैक्सीन का भारत ” ( Kavita Vaccine Ka Bharat ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.