हिंदी कविता – हताशा | है हताशा है निराशा जीवन मेरा अभिशाप है

2+

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता – हताशा

हिंदी कविता – हताशा

हिंदी कविता - हताशा

है हताशा है निराशा
जीवन मेरा अभिशाप है,
पाप पुण्य में फंसा
जीवन ही तो पाप  है

कर्म धर्म की धरा
ये मायावी वसुंधरा,
अखंड काल का कराल
वैभव विशाल है भरा

भय नहीं है मौत से
क्षय हुआ मैं शोक से,
दया धर्म दान दक्ष
छीन लिया मुझसे

क्या पता तुझे
जीवन मेरा एक रोग है,
न वैद्य है न औषधि
ये कैसा विश्वयोग है

भाग्य मेरा भाग्य नहीं
शक्ति रूप छल सही,
खंड-खंड में रहा
प्रलय रात्रि नाच रही

है हताशा है निराशा
जीवन मेरा अभिशाप है

पढ़िए :- वक़्त पर बेहतरीन शायरी


दीपक भारतीयह रचना हमें भेजी है दीपक भारती जी ने कोरारी गिरधर शाह पूरे महादेवन का पुरवा, अमेठी से

“ हिंदी कविता – हताशा ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply