हिंदी कविता जीवन एक संघर्ष | Kavita Jeevan Ek Sangharsh

आप पढ़ रहे हैं ( Hindi Kavita Jeevan Ek Sangharsh ) हिंदी कविता जीवन एक संघर्ष :-

हिंदी कविता जीवन एक संघर्ष

हिंदी कविता जीवन एक संघर्ष

दूर बैठी कोने में
चुपचाप सहमी-सी,
अचानक इधर उधर देखती है।

शायद कोई परेशानी थी उनको
या कोई परेशान कर रहा था,
शायद बच्चे थे …..
पर बिना ध्यान दिये खाने लगी,
कुछ सेव चाकू से काटते हुए।

हैरानी नहीं दुखद है ,
फिर शिकार हुई, एक महिला
ज्यादा नहीं
उम्र तीस – पैंतीस के लगभग …….
आचार – विचार व्यवहार रंग -ढंग
ना कुछ समझ ना कोई भाव
अपने में लीन।

सोच सकती थी, पर सोच नहीं सकती,
अपने बारे में।
मानसिक कष्ट सहन करते-करते
खुद मानसिक रोगी बन गई
सोच नहीं सकती, मैं …..
कोई इतना निर्दय कैसे हो सकता है?

कुछ दिनों बाद उसी पर ,
एक महिला कोने में बैठी हुई ….
सिसकती है ….. रोती है।
उनकी आखें देखे से देखी नहीं जाती …..
चेहरा झुलस कर गले की तरफ आ जाता है ,
शरीर पर चमड़े नहीं हड्डियाँ दिखती है।
शायद कोस रहीं थी………

अन्दर से वो तड़प रही थी, सिसक रही थी …..
नहीं – नहीं …….
अपने से ही एसिड
खुद पर ही डालकर झुलस गयी।
नादानी नहीं, मानसिक समस्या,
शायद तंग आ गयी थी, अपने जीवन से
समाज से मिलने वाली ठोकरों से,
झूठे पत्तलों की बेइज्जती से,
करोड़ों इनसानों की अनदेखी से,
दिमाग नहीं आत्मा परेशान थी।

और फिर …… त्याग देतीं है,
अपना उलझनों भरा शरीर
फिर फेंक दिया जाता है,
जानवरों की तरह आखिरी संस्कार के लिए …..

परसाई जी के शब्द आज भी प्रासंगिक है –

जिन्दा रहते मत पूछो, पूछो मरणोपरांत
और ये महिला और कोई नहीं वही महिला थीं ।
आखों में अब भी गढ़ा हुआ है ,
उनका चेहरा ……
उनकी समृति साबित करती है ,
जीवन एक संघर्ष

पढ़िए :- हिंदी कविता बेबसी का ज्ञान


रचनाकार का परिचय

बिट्टू कौर

यह कविता हमें भेजी है बिट्टू कौर जी ने खड़गपुर से।

“ हिंदी कविता जीवन एक संघर्ष ” ( Kavita Jeevan Ek Sangharsh ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *