कोरोना पर हिंदी कविता – विनाशकारी है बड़ा ही करोना | Hindi Poem On Corona Virus

4+

आप पढ़ रहे हैं ( Hindi Poem On Corona Virus ) कोरोना पर हिंदी कविता ” विनाशकारी है बड़ा ही करोना ” :-

कोरोना पर हिंदी कविता

कोरोना पर हिंदी कविता

इसे ख़त्म करने के लिए लाज़मी है सबका आगे होना ,
ये कांटेदार गोला विनाशकारी है बड़ा ही करोना।

दिमाग़ , फेफ़ड़े और दिल है इसका असली निशाना ,
बहुत असर करेगा इस पर हाथों को बार – बार धोना।

आया चीन से मेहमान बनकर कई देशों – विदेशों में ,
लोगों की हसी को खा गया इसका घर – घर जा रोना।

जो बली ले गया उनकी उनके अपनों के ही सामने ,
समझते जो थे चमगादड़ों ,सांपों को मिटटी का खिलौना।

वो खाते थे शौंक से दिल , गुर्दे निकाल – निकालकर ,
करोना ने लगा दिया उन सबका शमशान में बिछौना।

पढ़िए :- कोरोना वायरस पर कविता “चलो आज घर में वक्त बिताते हैं”


यशु जानयशु जान (9 फरवरी 1994-) एक पंजाबी कवि और लेखक हैं। वे जालंधर सिटी से हैं। उनका पैतृक गाँव चक साहबू अप्प्रा शहर के पास है। उनके पिता जी का नाम रणजीत राम और माता जसविंदर कौर हैं । उन्हें बचपन से ही कला से प्यार है। उनका शौक गीत, कविता और ग़ज़ल गाना है। वे विभिन्न विषयों पर खोज करना पसंद करते हैं। वे अपनी उपलब्धियों को अपनी पत्नी श्रीमती मृदुला के प्रमुख योगदान के रूप में स्वीकार करते हैं।

“ कोरोना पर हिंदी कविता ” ( Hindi Poem On Corona Virus ) के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी बेहतरीन रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

4+

2 Comments

  1. Avatar Suraj

Leave a Reply