जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल | Janamdin Par Shayari Ghazal

+11

नमस्कार दोस्तों मुझे बहुत बार लोग़ों ने ये कहा है कि मैं जन्म दिन पर भी कोई ग़ज़ल लिखूँ। तो इस लिए आज मैं आपका शायर ‘यशु जान’ अपनी क़लम से लेकर आया हूँ एक शानदार ग़ज़ल जो कि आज किसी ख़ास शख़्स के जन्म दिन पर ही लिख़ी गई है। तो आइये पढ़ते हैं जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल :-

जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल

जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल

क़ाश ऐसा भी एक काम करदे ख़ुदा ,
आपका ये दिन ख़ुशियों से भरदे ख़ुदा।

आपके मुँह से जो निकले सच हो जाए ,
आपकी दुआ में ऐसा असर दे ख़ुदा।

मेरी ज़िन्दग़ी से ज़्यादा आप क़ीमती हैं ,
दुआ करते हैं आपको भी लंबी उम्र दे ख़ुदा।

तुम्हारे जश्न का ख़ज़ाना कभी ख़ाली न हो ,
आपको ख़ुशियाँ भी इस क़दर दे ख़ुदा।

हमारी सदियों से ये है फ़रयाद कि आपको ,
अच्छी नौक़री ,अच्छा पति ख़ूबसूरत घर दे ख़ुदा।

पढ़िए :- यशु जान की बेहतरीन शायरी | Yashu Jaan Ki Shayari


यशु जानयशु जान (9 फरवरी 1994-) एक पंजाबी कवि और लेखक हैं। वे जालंधर सिटी से हैं। उनका पैतृक गाँव चक साहबू अप्प्रा शहर के पास है। उनके पिता जी का नाम रणजीत राम और माता जसविंदर कौर हैं । उन्हें बचपन से ही कला से प्यार है। उनका शौक गीत, कविता और ग़ज़ल गाना है। वे विभिन्न विषयों पर खोज करना पसंद करते हैं। वे अपनी उपलब्धियों को अपनी पत्नी श्रीमती मृदुला के प्रमुख योगदान के रूप में स्वीकार करते हैं।

“ जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल ” ( Janamdin Par Shayari Ghazal ) के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी बेहतरीन रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

+11
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email
ग़ज़ल तर्क वितर्क

ग़ज़ल तर्क वितर्क | Ghazal Tark Vitark

+16 ग़ज़ल तर्क वितर्क मुश्क़िलों को समझें तर्क – वितर्क करें , मज़हबों में नहीं सोच में फ़र्क़

2 thoughts on “जन्म दिन पर शायरी ग़ज़ल | Janamdin Par Shayari Ghazal”

  1. श्याम बिल्दानी 'सादगी' बड़नेरा अमरावती महाराष्ट्र

    Janamdin par bahut hi pyari aur lajwaab gajal likhi ain yasu jan ji aapne.aapko bahut bahut hardik shbhkamnye

    +1
  2. जी आपका बहुत – बहुत शुक्रिया जवाब देरी से देने के लिए माफ़ी

    0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *