होलिका दहन पर कविता | Holika Dahan Par Kavita

आप पढ़ रहे हैं होलिका दहन पर कविता :-

होलिका दहन पर कविता

होलिका दहन पर कविता

हर साल मुझकों जलाने का अर्थ क्या हुआ ?
सोच से अपनें मेरें जैसे सामर्थ सा हुआँ
हाथ में मशाल वालों से पूछतीं हैं होलिका
जलाने का प्रयास मुझकों तेरा ब्यर्थ क्यों हुआ ?

अपनें शान के अग्नि में ख़ुद ही मैं जल गईं
अभिमान के तेज़ ताप में ख़ुद ही मैं तल गईं
देखती हूँ तुम सभी भरे हो उसी दम्भ में
इसलिए तेरे हाथों हर बार जलने से मैं रह गईं

प्रह्लाद जैसा बन के कोई गोंद में आ जाओ मेरे
प्यार की बयार से जलाओ और बुझाओ मुझें
गर्व दर्प हिंसा नफ़रत निकाल दे जो मन से तो
ऐसे कोई अग्नि में एक बार ही जलाओ मुझें

फ़िर देखना हर साल मुझें जलाने की जरूरत नहीं
पाक दिल इन्सान में रहने की कोई हसरत नहीं
बुराईयाँ सब मिट जाए ,ऐ इंसान गर तुझसे
तो धरती पर रुकने की मेरी कोई चाहत नहीं ।।

पढ़िए :- होली बधाई कविता | Holi Badhai Kavita


रचनाकार का परिचय

बिमल तिवारी यह कविता हमें भेजी है बिमल तिवारी “आत्मबोध” जी ने जिला देवरिया, उत्तर प्रदेश से। बिमल जी लेखक और कवि है। जिनकी यह पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है :- 1. लोकतंत्र की हार  2. मनमर्ज़ियाँ  3. मनमौजियाँ ।

“ होलिका दहन पर कविता ” ( Holika Dahan Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते है लिखने का हुनर और चाहते है कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.