कन्या भ्रूण हत्या पर कविता | Kanya Bhrun Hatya Par Kavita

Kanya Bhrun Hatya Par Kavita – आप पढ़ रहे हैं कन्या भ्रूण हत्या पर कविता :-

कन्या भ्रूण हत्या पर कविता
Kanya Bhrun Hatya Par Kavita

कन्या भ्रूण हत्या पर कविता

कमाल है सब
जिसे देवी मानते हैं,
लक्ष्मी,सरस्वती, दुर्गा
की तरह पूजते हैं।

वंश को हमारे
आगे बढ़ाए जो,
हमें जीवन जीना
सिखाए जो।

कभी माँ की तरह
दुलारती है,
कभी बहन की तरह
पुचकारती है।

बेटी बन गोद में
खेलती है,
बीवी बन सब कुछ
चुपचाप झेलती है।

इस समाज की सच में
जो धुरी है,
जो अपने आप मे ही
समझो पूरी है।

शिक्षा,व्यवसाय या
ज्ञान,विज्ञान में,
जिसने परचम लहरा दिए
पूरे जहान में।

उसे क्यों दबा रहे हो
संस्कारो से,
वो आगे थी,आगे है
हजारों से।

कपड़ों पर ताने मत मारो
उसके तुम,
पथ को बस सँवारो
उसके तुम।

वो आसमां छू जाएगी
देखना,
समाज को राह दिखाएगी
देखना।

अपनी सोच को थोड़ा तो
विस्तार दो,
उसे,उसके हिस्से का बस
संसार दो।

क्यों कोख में ही मार रहे
बेटियों के,
मौत के घाट उतार रहे
बेटियों को।

भ्रूण हत्या,किसी पाप से
कम नहीं है,
तुम इंसान ही नही,ग़र तुम्हें
इल्म नहीं है।

पढ़िए :- भ्रूण हत्या पर कविता ” मेरी भी कुछ अभिलाषा है “


रचनाकार का परिचय

डॉ विनोद कुमार शकुचन्द्र

डॉ विनोद कुमार शकुचन्द्र
पिता :-
श्री राम चन्द्र, सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर, हरियाणा रोडवेज
माता :- श्री मति शकुंतला देवी
जन्म स्थान :- गांव लवाणा, जिला यमुनानगर, हरियाणा
शिक्षा :– एम. एस. सी., एम. एड., पी. एच. डी.
सहायक प्राध्यापक :- गौड़ ब्राह्मण शिक्षण महाविद्यालय, रोहतक, हरियाणा
शिक्षण अनुभव:- 15 वर्ष
प्रकाशन:- विभिन्न साहित्य संस्थाओ की पुस्तकों में,समाचार पत्रों में, मैगज़ीन में, फेसबुक पेज आदि में रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं।
सम्मान :- विभिन्न संस्थाओं द्वारा सम्मानित हो चुके हैं
विभिन्न यूट्यूब प्रतियोगिताओं में स्थान प्राप्त किया

यूट्यूब चैनल:- स्वयं का एक यूट्यूब चैनल संचालित करते हैं।

“ कन्या भ्रूण हत्या पर कविता ” ( Kanya Bhrun Hatya Par Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ कन्या भ्रूण हत्या पर कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.