कविता कितना आसान होता है | Kavita Kitna Asaan Hota Hai

+4

आप पढ़ रहे हैं कविता कितना आसान होता है :-

कविता कितना आसान होता है

कविता कितना आसान होता है

कितना आसान होता है ये कहना
कि तुम समझ नहीं सकते,
कितना आसान होता है ये मानना
कि तुम समझ नही सकते।

कितना आसान होता है ये सोचना
कि तुम समझ नहीं सकते,
कभी सोचा तुमने कि
सामने वाले को समझें या
खुद ही समझ लिया कि वो शख्स
समझेगा नहीं ।

आखिर हम खुद ही क्यों मान लेते हैं
कि वो शख्स समझेगा नही हमें,
कभी थोड़ी सी सोच बदल के देखो,
कभी थोड़ी सी पहल करके तो देखो।

कभी थोड़ी सी कोशिश करके तो देखो
कभी उस पथ पे चलके तो देखो,
क्या पता वो समझ जाए,
इस बदलाव से कई रिश्ते सवर जाए
और देखते देखते दुनिया निखर जाए ।।

पढ़िए :- किसी की याद में कविता | हम तो बस यादों के दम पर


रचनाकार का परिचय

रुची

यह कविता हमें भेजी है रुचि जी ने दिल्ली से।

“ कविता कितना आसान होता है ” ( Kavita Kitna Asaan Hota Hai ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+4

Leave a Reply