कविता पर कविता :- कविता ईश्वर की है प्रार्थना

0

एक रचनाकार जब कविता  लिखता है तो उसमें क्या भाव प्रकट करता है और उसकी कविता किसे संबोधित करती है। यही सब बता रही है यह कविता पर कविता :-

कविता पर कविता

कविता पर कविता

कविता है अंतर्मन की भावना
कवियों की सम्पूर्ण है साधना,
कविता पूजा है कलम की
कविता ईश्वर की है प्रार्थना,

शब्दो की माला है कविता
आनंदरस प्याला है कविता,
डूबते चले जाते हैं कवि
ऐसी मुधशाला है कविता।

कविता सौंदर्य अनुपम श्रृंगार है
किसीकी वेदना भरी पुकार है,
कविता है गागर में सागर
कविता में ही सारे अलंकार है,

निर्बलों की ताकत है कविता
गुमनामो की पहचान है कविता,
दबा दी गयी आवाज जिनकी
उनके दर्द का एहसास है कविता।

पढ़िए :- हिंदी कविता “मेरी कविताएँ”

“ कविता पर कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply