नव वर्ष की कविता :- उत्साह है नव वर्ष का | Nav Varsh Kavita

+1

आप पढ़ रहे हैं नव वर्ष की कविता :-

नव वर्ष की कविता

नव वर्ष की कविता

उत्साह है नव वर्ष का,
उल्लास और हर्ष का।

जाते वर्ष ने बहुत कुछ बताया,
धैर्य संयम से हमें जीना सिखाया।

कुछ ने इसमें नाम पाया,
कुछ ने अपना काम खोया।

खुशियों के भरे चारों तरफ कल हो,
कोरोना महामारी का अब हल हो ।

कोरोना कितनों नहीं जान गवहाई,
किसानों ने अपने हक की आवाज उठाई।

जाति धर्म के नाम पर कोई खेल ना हो,
सब प्रेम से रहे इसमें कोई मेल ना हो।

चारों तरफ एक उमंग है,
नए सोच विचार की तरंग है।

अपने सपनों को इस साल में सच करना,
उनको पाने के लिए हौसला हिम्मत के साथ लड़ना।

कहीं मेरी भूल हुई हो तो माफ करना,
मन में मेरे लिए घर ना हो तो उसको साफ करना।

आप सभी को नव वर्ष की बधाई,
सुनहरे पल में इस बार जनवरी आई।

पढ़िए :- नव वर्ष पर हास्य कविता | वक़्त आप जो साथ हैं


दास बैरागी

यह कविता हमें भेजी है दास बैरागी जी ने इंदौर ( म. प्र.) से। दास बैरागी जी 12वीं के छात्र हैं और कवि समाज सेवा आदि का काम भी करते हैं।

“ नव वर्ष की कविता ” ( Nav Varsh Ki Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+1

Leave a Reply