पेड़ बचाओ पर बाल कविता – वृक्ष बचाएं हम | Ped Bachao Bal Kavita In Hindi

5+

पेड़ों की रक्षा व वृक्षारोपण हेतु प्रेरित करती ( Ped Bachao Bal Kavita In Hindi ) पेड़ बचाओ पर बाल कविता ” वृक्ष बचाएं हम ”

पेड़ बचाओ पर बाल कविता

पेड़ बचाओ पर बाल कविता

तुलसीपत्र में देव विराजित ,
समस्त रोगों का करती है नाश ।
तुलसी तुमको नित्य वन्दन है ,
समस्त तीर्थों का तुममें वास ।।

पीपल जो अश्वत्थ कहलाता,
वासुदेव का इसमें वास ।
प्राणवायु अधिकाधिक देता,
इसे काटना है महापाप ।।

सभी मांगलिक कार्यों की शोभा,
कदली वृक्ष से होता है ।
हरा – भरा होता सिंचन से ,
कदली वृक्ष इसे जान ।।

पेड़ नारियल का है उपयोगी ,
पंखे, झाड़ू, रस्सी बनते ।
मधुर पौष्टिक पानी इसका ,
तेल भी आता इसका काम ।।

विल्वपत्र शिव को प्रिय ,
मूल में महादेव का वास ।
लक्ष्मी जी को भाता खुब,
श्रीफल है इसका नाम ।।

कार्तिक नवमी को पूजा जाता,
सदियों से है इसका विधान ।
बाग – बाड़ी वृक्ष आंवला का ,
सभी औषधियों का रामबाण ।।

शबरी के मीठे बेरों की ,
श्रीराम प्रशंसा करते हैं ।
बद्री वृक्ष इसे कहते हैं ,
ये सबको रुचिकर लगते हैं ।।

शमी वृक्ष है प्रतीक शनि का ,
इसे द्वार पर लगाते हैं ।
शिव ने भी पूजा है इसको,
अग्नि भी धारित है इसमें ।।

फलों का राजा आम कहाता ,
यह वृक्ष भारत का मान है।
यज्ञादि विधि जप पूजन में,
शुभ हरित पत्र, फल आता काम है।।

इस भाँति अनेकानेक वृक्ष,
गौरव का ज्ञान कराते हैं ।
अमृतसम निजफलरस से,
जीवन का स्वाद दिलाते हैं ।।

सभी वृक्ष इतने उपयोगी,
पत्थर मारों फल देते हैं ।
व्यर्थ न काटो इन्हें बचाओं ,
यह धरती को जल देते हैं ।।

पर्यावरण रक्षा वृक्षों से होता,
प्रदूषण मुक्ति में है योगदान ।
सौ पुत्रों से बढ़कर है ,
एक वृक्ष का पालन हार ।।

वृक्ष हमारे नित्य सहायक ,
इनकी सेवा पालन अपना कर्म।
यही हमारी भारतीयता ,
यही हमारा सनातन धर्म ।।

पढ़िए :- पेड़ पौधों पर कविता – अब पेड़ लगाओ


रचनाकार का परिचय :-

पं. अभिषेक कुमार दूबेनाम :- अभिषेक कुमार दूबे
पिता – श्री उमेश दूबे
माता – श्रीमती मीना देवी
कर्मकाण्डविद्
वेद विभूषण :- आर्षविद्या शिक्षण प्रशिक्षण सेवा संस्थान , मोतिहारी
वेदाचार्य (एम. ए.) “चत्वारि लब्ध स्वर्ण पदक प्राप्त”
शिक्षा शास्त्री :- सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी
एम. ए (संस्कृत ) :- राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय , फैजाबाद

प्रकाशन :- 10 शोधपत्र , 100+ लेख पत्रिका एवं दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित हो चुके हैं।

स्थाई निवास :- परसौनी खेम, चकिया, पूर्वी चम्पारण, बिहार

“ पेड़ बचाओ पर बाल कविता ” ( Ped Bachao Bal Kavita In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

5+

Leave a Reply