पिता दिवस पर कविता :- मेरे जीवन का आधार पिता | Pita Diwas Par Kavita

1+

पिता महिमा का बखान करती हुयी ( Pita Diwas Par Kavita ) पिता दिवस पर कविता “ मेरे जीवन का आधार पिता  ”

पिता दिवस पर कविता

पिता दिवस पर कविता

पिता है सृष्टि का निर्माता
प्रेम का आधार है आप ।
सर्वस्व शक्तिमान पिता है
मेरे जीवन का आधार पिता ।

बच्चों का अरमान पिता
ईश्वर का ही रुप है आप ।
मां की बिंदी व सुहाग पिता
परिंदे का आसमान है आप ।।

खुशियों का आशीष पिता
स्थान है देवता से ऊंचा ।
अनुभव के सीढीयों द्वारा
मित्र से बढ़कर समझाया ।।

हौसला हर पल बढ़ाया है
आसमां का कद भी किया छोटा ‌।
मेरे लिए मेहनत कर लाएं
संसार को भी बौना बनाया ।।

दर्द को दबाकर छिपाते है
हार में भी खुश होते हैैं ।
कल्पतरु भी आप ही है
कांटो पर चलकर मुस्कराते हैं ।।

मुश्किल है गिनती करना
उपकार पिता ने जो है किया ।
पिता के उत्तर दायित्व का
निर्वहन करना है मुश्किल ।।

मेरे जीवन का आधार पिता ।।

पढ़िए :- पिता के ऊपर कविता | आंसुओं को हमारे


रचनाकार का परिचय :-

पं. अभिषेक कुमार दूबेनाम :- अभिषेक कुमार दूबे
पिता – श्री उमेश दूबे
माता – श्रीमती मीना देवी
कर्मकाण्डविद्
वेद विभूषण :- आर्षविद्या शिक्षण प्रशिक्षण सेवा संस्थान , मोतिहारी
वेदाचार्य (एम. ए.) “चत्वारि लब्ध स्वर्ण पदक प्राप्त”
शिक्षा शास्त्री :- सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी
एम. ए (संस्कृत ) :- राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय , फैजाबाद

प्रकाशन :- 10 शोधपत्र , 100+ लेख पत्रिका एवं दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित हो चुके हैं।

स्थाई निवास :- परसौनी खेम, चकिया, पूर्वी चम्पारण, बिहार

“ पिता दिवस पर कविता ” ( Pita Diwas Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply