यही जीत है भारत की अपनी :- कोरोना के असर पर कविता

+10

यही जीत है भारत की अपनी

यही जीत है भारत की अपनी

न जाम की समस्या , न फैल रहा प्रदुषण ।
न हो रहा हल्ला , न दिख रहा धरना ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

न कपड़े की चिन्ता , न गहने का शौक ।
न मॉल का चक्कर , न दुकान का दौर ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

न ऑफिस का टेंशन , न बॉस की डांट ।
न फिजुल की चिंता , न पत्नी का फोन ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

न स्कूल की चिन्ता , न फीस का टेंशन ।
बच्चे है घर पर , कर रहे साथ मौज ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

देखें रामायण , सब देख रहे महाभारत ।
मिल रही शिक्षा , बढ़ रही संस्कृति ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

मिट रही दुश्मनी , बढ़ रहा मेल ।
भूले – भूले रिस्तों को , जोड़ रहे लोग ।
यही जीत है भारत की अपनी।।

बट रही खूब रोटी , कर रहे दान लोग ।
कलयुग में सतयुग , दिख रहा चारों ओर ।।
यही जीत है भारत की अपनी ।।

है पैसों की तंगी , नहीं फिर भी चिन्ता ।
मिल रहा सब कुछ , चाहिए नहीं कुछ और ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

सिर्फ जीने का चाहत , नहीं कुछ और ।
इसीलिए घर में बैठे है , धैर्य से लोग ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

न आपसी झगड़ा , न बदले की भावना ।
सिखा दिया यह , कोरोना का खौफ ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

दवा मांगा अमेरिका , बुटी मांगा ब्राजील ।
निवेदन मोदी से करके , चला विश्व गुरु की ओर ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

हार जाएगा कोरोना , जीत जाएंगे हम ।
पूरी दुनिया देखेगी , जीत जाएगा भारत ।।
यही जीत है भारत की अपनी।।

पढ़िए :- ग़ज़ल – झूठ की ताज़ा ख़बर अख़बार है


रचनाकार का परिचय :-

पं. अभिषेक कुमार दूबेनाम :- अभिषेक कुमार दूबे
पिता – श्री उमेश दूबे
माता – श्रीमती मीना देवी
कर्मकाण्डविद्
वेद विभूषण :- आर्षविद्या शिक्षण प्रशिक्षण सेवा संस्थान , मोतिहारी
वेदाचार्य (एम. ए.) “चत्वारि लब्ध स्वर्ण पदक प्राप्त”
शिक्षा शास्त्री :- सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी
एम. ए (संस्कृत ) :- राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय , फैजाबाद

प्रकाशन :- 10 शोधपत्र , 100+ लेख पत्रिका एवं दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित हो चुके हैं।

स्थाई निवास :- परसौनी खेम, चकिया, पूर्वी चम्पारण, बिहार

“ यही जीत है भारत की अपनी ” ( Yah Jeet Hai Bharat Ki Apni ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+10
Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

1 thought on “यही जीत है भारत की अपनी :- कोरोना के असर पर कविता”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *