रूठना मनाना ग़ज़ल – मनाना नहीं आता

0

रूठना मनाना ग़ज़ल – रूठे प्रेमी को मनाने के लिए सुन्दर सी गजल
                                                                           प्रिय पाठकों आज आप सबके लिए प्रस्तुत है कामिनी गुप्ता जी की बेहतरीन ग़ज़ल रूठे हुए प्रेमी को मनाने के लिए , तो आइये पढ़ते हैं –

 

रूठना मनाना ग़ज़ल

रूठना मनाना ग़ज़ल

बातें भी तो हमें इतनी बनाना नहीं आता।
रूठे रहते हो तुम यूं मनाना नहीं आता।

कह कह के तुमको हम तो हार गए हैं ;
गीत प्यार का भी तो सुनाना नहीं आता।

वो रेत के महल देखो बनाने लगे हैं अकसर ;
ऊंचे महलों में शायद दिल लगाना नहीं आता।

वक्त का क्या है वो तो यूं भी बदल जाएगा ;
बदल गए हैं हम अब ये बहाना नहीं आता।

पा ही लेते तुमको गर आती हमें भी अदाएं ;
चाहते हैं तुम्हें कितना ये भी जताना नहीं आता।

मिलो न गर जीवन में इक कमी सी सदा रहेगी ;
बात ये भी दिल की मिल के बताना नहीं आता।

यादें तो बस यादें हैं ये रुकती नहीं चाहने से;
प्यार में तुम्हारे दीवानापन छुपाना नहीं आता।

अब कोई कहे हमें नादां तो हैरत नहीं होती;
प्यार तो बस प्यार है इसे भुलाना नहीं आता।

तुम जो कहो तो चले जाएं शहर से तुम्हारे;
तुम्हें देख कर हमें आंखें चुराना नहीं आता।

यह भी पढ़िए – प्रेम भरी कविता “किसी मोड़ पर”


मेरा परिचय

कामिनी गुप्ता

नाम. : कामिनी गुप्ता

पिता : श्री सुभाष चन्द्र गुप्ता

जन्म स्थान. : जम्मू(जम्मू कश्मीर)

जन्म तिथि : 18:02:1978

शिक्षा : एम. एस.सी.(गणित)

विशेष. : पांच साँझा संग्रह में
प्रकाशित रचनाएं  तथा  विभिन्न अखबारों में प्रकाशित रचनाऐं

“ रूठना मनाना ग़ज़ल ” ( Roothna Manana Ghazal In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

One Response

  1. Avatar S. K sagar

Leave a Reply