सामाजिक कविता – अब न चलाओ ख़ंजर | Samajik Kavita

1+

प्रिय पाठकों , आज आप सबके सम्मुख प्रस्तुत है एक सामाजिक कविता जो आज के हालातों को बताती है की किस तरह हमारे ही देश के अन्दर रहकर वह सामाजिक सौहार्द को खराब कर रहे हैं , जैसे कश्मीर घाटी में वहीं के के कुछ नौजवान जो पथ से भटक गए हैं और अब सेना पर पत्थर बाजी करते हैं , उसी तरह कुछ समय पहले जे. एन. यू. में जिस तरह भारत तेरे टुकड़े होंगे जैसे देशद्रोही नारे लग रहे थे इस तरह के नारों को सुनने के बाद मन क्रोध से भर जाता है, तो इस कविता में कुछ इस तरह के भटके हुए लोगों से प्रार्थना की गयी है , तो आइये पढ़ते हैं सामाजिक कविता – अब न चलाओ ख़ंजर –

सामाजिक कविता

सामाजिक कविता

ज़हर घोलते फ़िज़ाओं में
हुक्म मानते आकाओं के
जन्नत को क्या कर दिया
भेष बदल कर कहर किया।

अब न चलाओ ख़ंजर
भयावह है ये देखो मंजर
शांति की अब बात करो
न महलों को करो खंड्हर ।

बसुंधरा भी सब देख रही
कितने संताप झेल रही
मानवता को जगाओ तुम
क्रूर दानव को भगाओ तुम।

कुछ घाव भरते नहीं हैं
अंतर्मन से निकलते नहीं हैं
संस्कृति को बचाओ तुम
विश्व में शांति बनाओ तुम।

यह भी पढ़िए – आदमी पर कविता “आदमी अकेला है”


मेरा परिचय

कामिनी गुप्ता

नाम. : कामिनी गुप्ता

पिता : श्री सुभाष चन्द्र गुप्ता

जन्म स्थान. : जम्मू(जम्मू कश्मीर)

जन्म तिथि : 18:02:1978

शिक्षा : एम. एस.सी.(गणित)

विशेष. : पांच साँझा संग्रह में
प्रकाशित रचनाएं  तथा  विभिन्न अखबारों में प्रकाशित रचनाऐं

सामाजिक कविता ” ( Samajik Kavita In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply