Van Sanrakshan Par Kavita | वन संरक्षण पर कविता | Save Forest

Van Sanrakshan Par Kavitaवन संरक्षण पर कविता – दोस्तों जीवन में वनों का बहुत ही ज्यादा महत्व है, वनों से हमें बहुत सी वस्तुवें मिलती हैं जो हमारे जीवन के लिए बहुत उपयोगी हैं और उनके बिना जीवन संभव नहीं है , आइये पढ़ते हैं डॉ. सरला सिंह जी की वन संरक्षण पर कविता – “काटते जंगल वे बनाते हैं”।

Van Sanrakshan Par Kavita
वन संरक्षण पर कविता

Van Sanrakshan Par Kavita

काटते जंगल वे बनाते हैं,
कंकरीटों के फिर महल ।
दिलो दिमाग़ पर हावी है ,
धन दौलत की बस चाह।

रखना उन्हें सजाकर फिर
दीवारों में ,छतों में ,फर्श में।
रहते कभी थे एक घर मे ,
चार भाई मिलकर के साथ ।

आज चार कमरों में आ गये ,
बस एक माता पिता दो बच्चे।
सबको पड़ी है दिखावट की ,
चार जन तो चार कार चाहिए।

एक घर में चार जन हैं फिर ,
चार एसी भी लगा हो जरूर।
कहते हो बौद्धिक सब बेकार,
करे जब काम सभी बेबुनियाद।

फैक्टरियों की जग में भरमार ,
बमबारूदों का बढ़ता कारोबार।
मनाते विश्व पर्यावरणदिवस तुम,
कहो क्यो,ये तो निरा दिखावा ।

यह भी पढ़ें- पेड़ पर कविता “तुम मुझे खत्म किये जा रहे हो”

वनों से हमें लकड़ी, हवा, पानी,ऑक्सीजन, ,खाने पीने की चीजें और कच्चा माल मिलता है। फिर भी दुनिया वनों का महत्व नहीं समझ पा रही है और जंगलों का कटना जारी है जो कि बेहद डरावना भविष्य लाने वाली है अगर हम आज नहीं सम्भले और ऐसे ही जंगलों के कटान चलता रहा तो धरती पर जीवन नष्ट हो जाएगा।


रचनाकार का परिचय

Van Sanrakshan Par Kavita | वन संरक्षण पर कविता | Save Forest

नाम –डॉ.सरला सिंह
माता का नाम--श्रीमति कैलाश देवी
पिता का नाम––स्व. श्री बासुदेव सिंह
पति का नाम-–श्री राजेश्वर सिंह
जन्मतिथि –– चार अप्रैल


वन संरक्षण पर कविता ”  ( Van Sanrakshan Par Kavita ) आपको कैसी लगी? “ वन संरक्षण पर कविता ”  ( Van Sanrakshan Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *