जिंदगी पर हिंदी कविता :- पतंग समान है | Zindagi Par Kavita

1+

जिंदगी पर हिंदी कविता

जिंदगी पर हिंदी कविता

जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

कभी यह ऊपर उठती है ,
कभी यह नीचे गिरती है ।
बहुत हिचकोले खाती है ,
कभी यह चक्कर खाती है।
जग को समझो जैसे ,
खुल्ला आसमान है ।।
जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

भाग्य की डोर है इसमें ,
कर्म का छोर है इसमें ।
बुद्धि का जोर है इसमें ,
कष्ट चहुँओर है इसमें ।
डोर पकड़ने वाला ,
वह भगवान है ।।
जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

जतन से इसे सम्भालो जी ,
गिरने से इसे बचा लो जी ।
खुशी के गीत गा लो ,
इसे ऊपर उठा लो जी ।
जीवन का हर क्षण समझो ,
एक इम्तिहान है ।।
जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

कोई उपकार करता है ,
कोई प्रतिकार करता है ।
जिसकी जैसी है बुद्धि ,
वही व्यवहार करता है ।
जो अपना समझे सबको ,
वही इंसान है ।।
जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

नहीं यह हाथ से छूटे ,
न इसकी डोर ही टूटे ।
करो कोशिश जीवन में ,
कोई हमसे नहीं रूठे ।
सुख – दुख तो “जग्गा” ,
कर्मों का ही विधान है ।।
जिंदगी पतंग समान है ,
यह जिंदगी पतंग समान है ।।

पढ़िए :- जिंदगी का सफर कविता “ऐ जिन्दगी मत पूछ”


रचनाकार का परिचय

जगवीर सिंह चौधरीयह कविता हमें भेजी है जगवीर सिंह चौधरी जी ने लोहकरेरा, रुनकता, आगरा से।

“ जिंदगी पर हिंदी कविता ” ( Zindagi Par Kavita In Hindi ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

2 Comments

  1. Avatar Udal Singh
  2. Avatar Rudra Nath Chaubey

Leave a Reply