Agaz Sacchi Mohabbat Ka Kavita | आगाज सच्ची मोहब्बत का कविता

Agaz Sacchi Mohabbat Ka Kavita एक युवा किसी लड़की से बेइन्तहां सच्ची मोहब्बत करता है फिर जब उनसे मिलने का वक्त आता है तो नायिका के तरफ से कुछ विरोधी खड़े होते हैं तब अन्त मे कवि इस कविता के द्वारा उनके सामने खुले रुप मे आगाज करता है –

Agaz Sacchi Mohabbat Ka
आगाज सच्ची मोहब्बत का कविता

Agaz Sacchi Mohabbat Ka Kavita

थाम  लो  बखूबी  हाथ आने से  रोको उन्हे
अपने   इलाके   मे   शेर   सी  कहानी  है ।

मानो  ना  मानो  ये  बिधि का  बिधान  जान
उनसे  मेरा  प्यार  महादेव  की  निशानी है।।

बेशक  खड़ा  हूं   मै  अकेला   ही  देख  लो
ताकत  है  सत्य  की  अधर्म  की  रवानी  है।

मोहब्बत  के  रास्ते मे  षड़यंत्र तुम सोचो गर
आर्यन ‘ की नजरों मे  नामर्द की निशानी है।।

तुम चाहें हजार लोग एक होकर विरोध करो
वक्त  की  बर्बादी  कुछ  हाथ  नही आनी है।

धोखे  मे  मत  रहना  ऐलान  फिर  करता  हूं
जीतना  ही  लक्ष्य  मैने  हार  नही  मानी  हैं।।

इज्जत से पेश आओ तो दिल से लगाऊंगा
नफरत  की  दुनिया में  महफिल  जमानी है।

आर – पार  करता हूं  दोस्ती  हो  या दुश्मनी
खोलकर  पढो  मेरी  बड़ी लम्बी कहानी है ।।

अमन  चैन  आया  तो  ठुकराने  लगे  आप
समझदार  होकर  सच  बात  नही  जानी है।

मैं   हूं  उनका   वो   बनी   सिर्फ   मेरे   लिये
सोच लो अब आप आगें बात क्या बढ़ानी है।।

पढ़िए :- Pyar Bari Shayari | प्यार भरी शायरी


रचनाकार का परिचय

आर्यपुत्र आर्यन

यह कविता हमें भेजी है आर्यपुत्र आर्यन जी ने। आर्यपुत्र आर्यन जी भागवत कथा प्रवक्ता व हिन्दी के रचनाकार हैं। इन्होंने पुस्तकें भी लिखी हैं एवं इनकी कई कविताएं व गीत उपलब्ध हैं।

“ आगाज सच्ची मोहब्बत का कविता ” ( Agaz Sacchi Mohabbat Ka ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.