कोरोना नहीं है एक बीमारी :- कोरोना पर कविता

8+

कोरोना नहीं है एक बीमारी

कोरोना नहीं है एक बीमारी

कोरोना नहीं है एक बीमारी,
जान रहा है दुनिया सारी ।
यह तो है एक महामारी ,
जिसमें उलझे हैं दुनिया सारी ।।

सूना सूना है धरती और समंदर
इंसान बन गया है भूख से बंदर
जिसके आगे ना टिका सिकंदर ,
डर से बैठा है घर के सब अंदर ।।

छोड़ दिया सब बाहर का काम,
घर में है मचा अब कोहराम ।
रास नहीं आता है आराम ,
बेबस हो गए अल्लाह और राम ।

अपाहिज भी पैदल चल रहा है,
वैज्ञानिक भी अब हाथ मल रहा है
विपत्ति नहीं अब टल रहा है,
बिना आग के धरती जल रहा है।

ठीक नहीं है दुनिया का हाल,
डॉक्टर-सिपाही हो गए बेहाल !
पूछता नहीं अब कोई हाल-चाल ,
इसके आगे सब है कंगाल ।

खाने पीने को तरस रहा,
आंखों से आंसू बरस रहा ।
ना कोई अब हर्ष रहा ,
अंधेरा, प्रकाश को गरस रहा।।

दोहरा रहा है देखो इतिहास,
उठने लगा चीन पर से विश्वास।
नहीं रहा नेताओं से आस,
चारों तरफ है लाश-ही-लाश।।

राशन पानी हो गया खत्म ,
नहीं हुआ करोना वायरस कम।
अब नहीं रहा देह में दम ,
फिर भी कहते हैं जीतेंगे हम।।

बिना काम बाहर मत जाना,
मिलने जुलने से कर दो माना ।
मुंह पर मास्क जरूर लगाना,
साबुन से हाथ धोकर खाना ।।

पढ़िए :- हिंदी कविता “जिसका नाम कोरोना है”


एस पी राजयह कविता हमें भेजी है एसपी राज जी ने बेगुसराय से।

“ कोरोना नहीं है एक बीमारी ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

8+

Leave a Reply