देश भक्ति दोहे सैनिकों पर | Desh Bhakti Dohe Sainiko Par

1+

देश भक्ति दोहे सैनिकों पर

देश भक्ति दोहे सैनिकों पर

हर कतरा निज देह का,कर देते हैं दान।
रक्तिम बूंदों से लिखा,तन पर हिंदुस्तान।

दुश्मन का हो अंत ये, है बस मेरा काम।
भारत माँ की जय करूँ, और जपूँ श्री राम।।

देशभक्ति करता रहूँ, जन्म-जन्म सौ बार।
मौत मिले जो इस जन्म, पुनः लूँ मैं अवतार।

जब भी मेरा जन्म हो, हो भारत निज धाम।
हर बार फौज में रहूँ, करूँ देश के काम।

सैनिक हूँ मैं देश का, समझो न मुझे आम।
मेरी वजह से घर में, करते सब आराम।

देशभक्ति ही धर्म है, है मेरा ईमान।
देश से ही प्रेम करूँ,और करूँ अभिमान।

पढ़िए :- भारतीय सैनिक पर कविता | भारती की जय कहूँगा


मेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

“ देश भक्ति दोहे सैनिकों पर ” ( Desh Bhakti Dohe Sainiko Par ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply