गीत कुँवारा लिख डाला : हिंदी गीत | Geet Kunwara Likh Dala

गीत कुँवारा लिख डाला

गीत कुँवारा लिख डाला

क्या व्यथा कहूँ रीते घट की
मरुथल पनघट भी पी डाला,
मन ने कोरे कागज पर
गीत कुँवारा लिख डाला।

आओ पढ़ना तुम कान्हा
प्रेम के ढ़ाई आखर को,
विरहिणी विरह में जाग रही
गागर में भर दो सागर को,
हल्दी कुमकुम के रंगों का
भाव है आज निराला,
इनकी कलकल की लय में
बस नाम तुम्हारा रट डा़ला।

मन ने कोरे कागज पर
गीत कुँवारा लिख डा़ला।

स्वप्नों को पाला नयनों में
अधरों पे राग सजा डा़ला,
बाँसुरी की धुन को पहना
साँसों की बना के माला,
बाट- बाट में दिन कटा
कटी बाट- बाट में रात,
मुरलीधर ना आया तो
मीरा ने पीया विष प्याला।

मन ने कोरे कागज पर
गीत कुँवारा लिख डा़ला।

दर्पण को देखूँ श्रृंगार करूँ
बनके छवि तेरी माँग भरूँ,
स्वप्न यही अंतिम है मेरा
तू मुझे वरे मैं तुझे वरूँ,
नयनों से नीर बहे छल-छल
प्यास हृदय में आ अटकी,
इस प्रीत-वरण की बेला में
मन-प्राण भोग चढ़ा डा़ला।

मन ने कोरे कागज पर
गीत कुँवारा लिख डा़ला।

पढ़िए :- पटल को समर्पित कविता “पटल के मन को भाया”

“ गीत कुँवारा लिख डाला ” ( Geet Kunwara Likh Dala ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

Praveen Kucheria

Praveen Kucheria

मेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.