हिंदी कविता बदलना अपना दृष्टिकोण | Badalna Apna Drishtikon

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता बदलना अपना दृष्टिकोण :-

हिंदी कविता बदलना अपना दृष्टिकोण

चलो स्वयं से निर्णय करें हम
विपत्ति का खोजेगे समाधान।
एकाग्र अगर हम हो सके तो
पत्थर में प्रकट होंगे भगवान।।

पथ में होंगे अनेकों अनुभव
कभी चंचल मन मानेगा हार।
प्रयास करना व्यर्थ ही होगा
विफलता कहेगी यह बारंबार।।

किंतु तेरे समक्ष हे! मानव
प्रत्येक विपत्ति होगी ढेर।
सफलता कदम चूमेगी तेरे
धैर्य रखना होगा थोड़ी देर।।

संकट तुझसे बड़ा ना कोई
पर्वत तूने का घमंड तोड़ा।
विराट सरिता की लहरों को
अपनी बुद्धिमता से मोड़ा।।

जीवन की किसी राह में
एक क्षण ना होना निराश।
अपने गुणों को करना प्रखर
कभी ना खोना तू विश्वास।।

बाधा कोई जब ना सुलझे
ध्यान लगाना रहना मौन।
समस्या में ही हल होगा
बदलना अपना दृष्टिकोण।।

पढ़िए :- प्रेरणादायक कविता इन हिंदी | रात भले विकट घनी हो


नमस्कार प्रिय मित्रों,

सूरज कुरैचया

मेरा नाम सूरज कुरैचया है और मैं उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के सिंहपुरा गांव का रहने वाला एक छोटा सा कवि हूँ। बचपन से ही मुझे कविताएं लिखने का शौक है तथा मैं अपनी सकारात्मक सोच के माध्यम से अपने देश और समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जिससे समाज में मेरी कविताओं के माध्यम से मेरे शब्दों के माध्यम से बदलाव आए।

क्योंकि मेरा मानना है आज तक दुनिया में जितने भी बदलाव आए हैं वह अच्छी सोच तथा विचारों के माध्यम से ही आए हैं अगर हमें कुछ बदलना है तो हमें अपने विचारों को अपने शब्दों को जरूर बदलना होगा तभी हम दुनिया में हो सब कुछ बदल सकते हैं जो बदलना चाहते हैं।

“ हिंदी कविता बदलना अपना दृष्टिकोण ” ( Hindi Kavita Badalna Apna Drishtikon ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.