हिंदी कविता गुमराह | Hindi Kavita Gumrah

+1

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता गुमराह :-

हिंदी कविता गुमराह

हिंदी कविता मृगमरिचिका

हम मनाते रहे बार बार,
वो हर बार बिछड़ बैठे।

मुझे यकीन था जिसपर,
वो हमें ही गुमराह कर बैठे।

हम देते रहे राह उसे,
वो मेरा ही पथभर्ष्ट कर बैठे।

नशे के नाम से दूर रहते हैं हम,
वो हर बार मुझे नशेड़ी कह बैठे।

चाहा था सूख दुःख बाटूंगा,
वो हमें ही दुखी कर बैठे।

देखते रहे वो अपना ही खुदगर्ज,
हम उन्हें अपना अर्ज कर बैठे।

मनाते रहे वो जश्न साथ हमारे,
हम है उन्हें अपना समझ बैठे।

डरावना है मौत का मंज़र,
वो मेरी मौत की तलक ले बैठे।

करता भरोसा बार बार उसपर,
फिर भी हमें गुमराह कर बैठे।

पढ़िए :- ग़ज़ल “सलामत रहे आशियाना तुम्हारा” | Ashiyana Tumhara


रचनाकार का परिचय

नटवर चरपोटा

यह कविता हमें भेजी है नटवर चरपोटा जी ने नई आबादी गामड़ी, प. स. तलवाड़, ज़िला बांसवाड़ा, राजस्थान से।

” हिंदी कविता गुमराह ” ( Hindi Kavita Gumrah ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+1

Leave a Reply