हिंदी कविता जागो अब | Hindi Kavita Jaago Ab

रामबृक्ष कुमार जी की ” हिंदी कविता जागो अब “

हिंदी कविता जागो अब

हिंदी कविता जागो अब

जागो अब जीवन लो तराश ।
नीली  धरती  से  गगन  बीच
मंगल जीवन  रेखा  लो  खींच
कलमयुग कलयुग का इतिहास ।
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

धरती गगन समूचे जल को,
नाप लिया जीवन के पल को
शिक्षा  से  है  जीवन  विकास ।
जागो  !अब  जीवन  लो  तराश ।

न कृपा श्राप वरदान कोई      
न स्वर्ग वैतरणी  दान कहीं
सच का करोगे कब एहसास ?
जागो ! अब  जीवन  लो  तराश ।

करे न विधवा शुभ कार्य शुरू
यह अपमान क्यों स्वीकार करू
कब   ये    मिटेगा   अंधविश्वास।
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

पत्थर पर दूध गिराते हो
पर किसकी क्षुधा मिटाते हो?
सत्य का कब होगा आभास?
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

  क्या छुआ छूत क्या भेदभाव
नफरत का जलता क्यूं अलाव?
मानवता   का   हो   रहा   हास।
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

मन दिल का ईश्वर मात पिता
हैं श्रद्धा ममता के बृक्ष लता
फिर क्यों होता है परिहास। 
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

हाथों की रेखा भाग्य नही
है कर्म इष्ट सौभाग्य यही
जग में भर दो जगमग प्रकाश ।
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

सद्भाव आचरण प्रेम कृत्य
धरती को बनाते स्वर्ग नित्य
कर लो मन में सुकर्म सुवास ।
जागो !अब  जीवन  लो  तराश ।

पढ़िए :- प्रेरणादायक कविता ” प्रखर धूप में “


रचनाकार का परिचय

रामबृक्ष कुमार

यह कविता हमें भेजी है रामबृक्ष कुमार जी ने अम्बेडकर नगर से।

“ हिंदी कविता जागो अब ” ( Hindi Kavita Jaago Ab ) आपको कैसी लगी ? “ हिंदी कविता जागो अब ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.