हिंदी कविता – जिसका नाम कोरोना है | Jiska Naam Corona

हिंदी कविता – जिसका नाम कोरोना है ( Hindi Kavita Jiska Naam Corona Hai ) :-

हिंदी कविता – जिसका नाम कोरोना है

हिंदी कविता - जिसका नाम कोरोना है

कालरूप रख फैला विश्व में
जिसका नाम कोरोना है,
भयभीत न हो अरे मानव तू
बस कुछ पल का ही रोना है।

वृक्ष लगाकर जीवन को ऊर्जा दो
व सरिता को जो तुम रखोगे साफ,
ईश्वरीय शक्ति तुम्हारे पक्ष में होकर
सम्पूर्ण त्रुटियों को कर देगी माफ़।

प्रकृति मूक स्वरों में बोल रही है
बाहर निकलकर मत मचाओ शोर,
युद्ध के मैदान में नहीं घर में छिपकर
चुप रहने से छटेंगे बदल घनघोर।

न तीरों से न बंदूकों से
बहादुरी से न जिन्दादिली से,
कोरोना को मिटाया जा सकता है
घर में रहकर बुजदिली से।

इस अभियान को सफल बनाएगी
आपकी कुछ दिनों की ख़ामोशी,
ऐसी व्यथित विपदा के क्षणों में
निर्दोष होकर मत बनना दोषी।

महामारी ने मौत का खेल खेला
मनुष्य बना उसका खिलौना है,
समाधान का श्रेय आप ही हो
व आपके घर का हर कोना है।

कोरोना नहीं है तुझसे मजबूत
पर मत समझो उसको कमजोर,
सावधानी व जागरूकता से
टूट जाएगी इसकी जीवन की डोर।

पुनः कोलाहल करते बच्चे खेलेंगे
शीघ्र ही सुनहरा सवेरा होगा,
जन-जन की कामना कायम होगी
फिर धरा से दूर अँधेरा होगा।

एकांत में रहकर जुड़ो किताबों से
जीवन का उद्देश्य नहीं बस सोना है,
चल सपने तेरे तुझे बुला रहे हैं
आज मेहनत के बीजो को बोना है।

विषम परिस्थितियों न संकटों में
अमूल्य समय न हिन् तुझको खोना है,
भयभीत न हो अरे मानव तू
बस कुछ पल का ही रोना है।

कालरूप रख फैला विश्व में
जिसका नाम कोरोना है,
भयभीत न हो अरे मानव तू
बस कुछ पल का ही रोना है।

पढ़िए :- चरित्र निर्माण पर कविता “तुम राहों के कोमल फूल बनो”


नमस्कार प्रिय मित्रों,

सूरज कुमार

मेरा नाम सूरज सूरज कुरैचया है और मैं उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के सिंहपुरा गांव का रहने वाला एक छोटा सा कवि हूँ। बचपन से ही मुझे कविताएं लिखने का शौक है तथा मैं अपनी सकारात्मक सोच के माध्यम से अपने देश और समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जिससे समाज में मेरी कविताओं के माध्यम से मेरे शब्दों के माध्यम से बदलाव आए।

क्योंकि मेरा मानना है आज तक दुनिया में जितने भी बदलाव आए हैं वह अच्छी सोच तथा विचारों के माध्यम से ही आए हैं अगर हमें कुछ बदलना है तो हमें अपने विचारों को अपने शब्दों को जरूर बदलना होगा तभी हम दुनिया में हो सब कुछ बदल सकते हैं जो बदलना चाहते हैं।

“ हिंदी कविता – जिसका नाम कोरोना है ” ( Hindi Kavita Jiska Naam Corona Hai ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

1 thought on “हिंदी कविता – जिसका नाम कोरोना है | Jiska Naam Corona”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *