हिंदी कविता निशा सुन्दरी | Hindi Kavita Nisha Sundari

0

प्रस्तुत हिंदी कविता निशा सुन्दरी में “निशा और चाँद ” अर्थात् रात और चन्द्रमा के प्रेममय दृश्य का चित्रण किया गया है।

हिंदी कविता निशा सुन्दरी

हिंदी कविता निशा सुन्दरी

भूख मिटाने की आशा में ,
जो दिन भर दौड़ा करते ।
पर्याप्त धनार्जन करनें को,
दिन भर श्रमरत रहते ।।1।।

विश्राम मिलेगा उनको कबतक,
इसी सोच में व्याकुल हैं ।
कब आयेगी शशि की प्यारी,
इंतजार में आकुल हैं ।।2।।

दिन भर जलता रहता सूरज,
जब थकने को आता है ।
तभी निशा का नेह निमंत्रण ,
धरती पर छा जाता है ।।3।।

निशा तुम्हारी बात निराली ,
कितनी प्यारी लगती हो ।
बना चाँद को अपना प्रियतम,
जब आभा में सजती हो ।।4।।

खिलखिलाखिला कर हँसती हो जब ,
चाँद दिवाना बन जाता ।
प्यार भरा आमंत्रण तेरा,
पाकर मन ही मन हरषाता ।।5।।

स्वागत में तेरे बिखराता ,
सुखद चाँदनी हँसकर ।
आँचल में आ जाता तेरे ,
प्यार पाश में फँसकर ।।6।।

चाँदनी बिखेर सम्पूर्ण धरा पर ,
तेरा वंदन करता ।
आगमन मार्ग पर पलक बिछा,
तेरा अभिनन्दन करता ।।7।।

स्वागत करता हाथ जोड़कर,
मेरी बाँहों में आ जाओ ।
मुखमंडल करता आकर्षित ,
मेरी प्यारी बन जाओ ।।8।।

आओ दोनों दोनों में खो जायें,
दोनों जग को सुख पहुँचायें ।
दोनों दोनों के मीत बनें ,
अद्भुत सुख दोनों पायें ।।9।।

पढ़िए :- हिंदी कविता चाँद से फरियाद


रचनाकार का परिचय

रूद्र नाथ चौबे ("रूद्र")नाम – रूद्र नाथ चौबे (“रूद्र”)
पिता- स्वर्गीय राम नयन चौबे
जन्म परिचय – 04-02-1964

जन्म स्थान— ग्राम – ददरा , पोस्ट- टीकपुर, ब्लॉक- तहबरपुर, तहसील- निजामाबाद , जनपद-आजमगढ़ , उत्तर प्रदेश (भारत) ।

शिक्षा – हाईस्कूल सन्-1981 , विषय – विज्ञान वर्ग , विद्यालय- राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबरपुर , जनपद- आजमगढ़ ।
इंटर मीडिएट सन्- 1983 , विषय- विज्ञान वर्ग , विद्यालय – राष्ट्रीय इंटर कालेज तहबर पुर , जनपद- आजमगढ़।
स्नातक– सन् 1986 , विषय – अंग्रेजी , संस्कृत , सैन्य विज्ञान , विद्यालय – श्री शिवा डिग्री कालेज तेरहीं कप्तानगंज , आजमगढ़ , (पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर ) उत्तर प्रदेश।

बी.एड — सन् — 1991 , पूर्वांचल विश्व विद्यालय जौनपुर , उत्तर प्रदेश (भारत)
साहित्य रत्न ( परास्नातक संस्कृत ) , हिन्दी साहित्य सम्मेलन इलाहाबाद , उत्तर प्रदेश

पेशा- अध्यापन , पद – सहायक अध्यापक
रुचि – आध्यात्मिक एवं सामाजिक गतिविधियाँ , हिन्दी साहित्य , हिन्दी काव्य रचना , हिन्दी निबन्ध लेखन , गायन कला इत्यादि ।
अबतक रचित खण्ड काव्य– ” प्रेम कलश ” और ” जय बजरंगबली “।

अबतक रचित रचनाएँ – ” भारत देश के रीति रिवाज , ” बचपन की यादें ” , “पिता ” , ” निशा सुन्दरी ” , ” मन में मधुमास आ गया (गीत) ” , ” भ्रमर और पुष्प ” , ” काल चक्र ” , ” व्यथा भारत की ” इत्यादि ।

“ हिंदी कविता निशा सुन्दरी ” ( Hindi Kavita Nisha Sundari ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

0

Leave a Reply