हिंदी कविता परछाईयाँ | Hindi Kavita Parchhaiyan

आप पढ़ रहे हैं ( Hindi Kavita Parchhaiyan ) हिंदी कविता परछाईयाँ :-

Hindi Kavita Parchhaiyan
हिंदी कविता परछाईयाँ

हिंदी कविता परछाईयाँ

न शौक, न श्रृंगार ,न इच्छा न चाह हो,
न दु:ख हो न दर्द हो,कठिन भले ही राह हो,
तेरे बिना रहना कैसा?भाये भला तनहाइयां?
बनकर सदा चलता रहूं ,अमिट तेरी परछाइयां।

कहता कौन? होता जुदा ,छाये में छोड़ता साथ है,
फिर कहां से वह आ जाता? जब होता प्रकाश है,
मौन हो ,बेशक चले ,बन शुभ्र चांद की छांइयां।
बनकर सदा चलता रहूं, अमिट तेरी परछाइयां।।

फर्क कोई पड़ता नहीं ,जब तेज हवा या धूप हो,
थक जाये दुनिया भले,थकता नहीं दो टूक वो,
क्या छोड़ देता साथ वह?,जब आती है कठिनाइयां।
बनकर सदा चलता रहूं, अमिट तेरी परछाइयां।।

अंश है वह आप का ,अपना भले न रूप हो,
मिट सकता नही वह सत्य सा,बाकी भले सब झूठ हो,
सीख लो इससे जरा, हमसफ़र की कहानियां।
बनकर सदा चलता रहूं, अमिट तेरी परछाइयां।।

होता है उसमें आलिंगन,पर होता नही मुस्कान है,
गहरी मोहब्बत प्यार से ,हम कितने अनजान हैं,
हर बात से वह बेखबर, समझता नहीं रुसवाईयां।
बनकर सदा चलता रहूं ,अमिट तेरी परछाइयां।।

पढ़िए :- हिंदी कविता दिल की आरजू | Hindi Kavita Dil Ki Arzoo


रचनाकार का परिचय

रामबृक्ष कुमार

यह कविता हमें भेजी है रामबृक्ष कुमार जी ने अम्बेडकर नगर से।

“ कविता जीने का सहारा हूं मैं ” ( Kavita Jeene Ka Sahara ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.