हिंदी कविता रीति जगत की | Hindi Kavita Reeti Jagat Ki

आप पढ़ रहे हैं प्रियंका गौतम जी द्वारा रचित ” हिंदी कविता रीति जगत की ” :-

हिंदी कविता रीति जगत की

हिंदी कविता रीति जगत की

रीति जगत की जाने  न कोई 
प्रेम की बाँसुरी पहुँचाने  ना कोई 
नन्हें-नन्हें स्वप्न देख सोते जागते यहाँ 
सृष्टि की रीती जाने न कोई 
कभी कोई कहता , कभी जब है कहता 
मधुर चक्र निचोड़ सा, मोह में खोयें 
जब-जब सोचू , निर्मल-कोमल मोह है किसका 
माँ का प्यार अब जाने ना कोई
रीती जगत की जाने  न कोई 

रीति जाग की जाने ना कोई 
क्रोध मनुष्य मुख लज्जित सा हुए 
मैं की अभिलाषा कर प्रथम-प्रथम परिचित हैं देता
देख पुण्य प्रहार कर दुख भोगी हुई
रुनझुन- रुनझुन  मन गीत के है पुकारे 
पर मानव आज अपनी परछाई को भी नकारें 
जाग की चिंता मुख़ पर हुए 
अजर अमर बनने की चाह में
खुद को भूल है जाये पर,
लोगों की भीड़ में आंखें बंद कर सो जाएं 
रीति जाग की जाने ना कोई 

रीति जाग की जाने ना कोई 
प्रेम पाने की अभिलाषा कहा कलियुग में हुए 
त्याग कर खुशियों का हहकर है मचाए 
नीले नीले अम्बर पर एक दिन ख़ुद को अकेला हैं पाए 
मुझे चाहा बस है इतनी 
मेरी जय-जय कार  जगत में हुईं 
रीति जाग की जाने ना कोई 

रीति जाग की जाने ना कोई ॥

पढ़िए :- बदलते रिश्तों पर कविता “आसमाँ में उड़ने लगे”


रचनाकार का परिचय

यह कविता हमें भेजी है प्रियंका गौतम जी ने दिल्ली से।

“ प्रेरणादायक कविता आईना ” ( Hindi Kavita Reeti Jagat Ki ) आपको कैसी लगी ? “ प्रेरणादायक कविता आईना ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.