कविता हे जन्मदात्री | Kavita Hey Janmdatri

कविता हे जन्मदात्री

कविता हे जन्मदात्री

हे जीवनदात्री ! हे जन्मदात्री!
जिस प्रेम तथा ढृढ़ता के साथ तुमने
इस तुच्छ जीवन का सुधार किया है,
वह अवर्णनीय है।
तुम उस प्रकृति की तरह हो जो
हमेशा हमे कुछ देने के लिए ही जानी जाती रही हो ।
तुम्हारे समान कोई प्रिय हो ही नही सकता ,
इस विश्व पटल के सबसे सुंदर मां हो ,
मैं जितना स्वयं को नहीं जानता
उससे ज्यादा तुम मुझे जानती हो ।

हे जननी तुम्ही मेरा प्रथम गुरु,
मार्गदर्शिगा,मेरे आदर्श हो।
मुझे जीवन की प्रत्येक घटना का स्मरण हैं
कि तुमने किस प्रकार अपनी देववाणी का
उपदेश करके मेरा सुधार किया ।

हे जननी तुम कभी हमारी
अंकतालिका नहीं पढ़ पाई ,
लेकिन हमारे चेहरे के भावों से
हमेशा सबकुछ असानी से पढ़ लेती थी ।
तुमने महान से महान संकट में
कभी अधीर नही होने दिया ।

तुम्ही ने तो सिखाया है
कभी हालातो से मजबूर होकर
जिंदगी से मुहं मोड़ना बुजदिली हैं ,
हलातो को अपने अनुकूल बनाना ही
जीवन कौशल हैं ।

हे जन्मदात्री ! मेरा हर सांस तुम्हारा ऋणी हैं ,
इस जन्म में तो क्या यदि अनेकों जन्मों में भी
सारे जीवन प्रयत्न करु तो भी
मैं उऋणी नहीं हो सकता ।

तुम्हारी दया की छाया में मैंने
कभी कष्ट अनुभव न किया ।
हे जननी तुमने निरंतर संघर्ष कर
कभी उफ तक नहीं की ,
स्वयं की पहचान छुपाकर
मुझे पहचान दिलाई ।

हे जीवनदात्री! तुम्हें धरा पे लाने वाले
ईश्वर भी तुमसे श्रेष्ठ नहीं हो सकते ।
हे जननी मुझे संसार की
किसी वस्तु की इच्छा नहीं है
बस तुम मेरे नजदीक रहो
मैं सदैव खुद को सौभाग्यशाली समझता रहूंगा ।

हे जन्मदात्री ! तुमने आत्मिक
तथा समाजिक उन्नति में
सदैव मेरा सहायक रही हो ।
मैं परमात्मा से सदैव विनती करुंगा
कि जन्म-जन्मांतर मुझे
तुम ही माता के रुप में साथ रहों।
आज मैं जो भी कुछ हूँ मैं
अपनी मां की अत्मकथा हूँ।

पढ़िए :- तुम्हारा होना माँ Best Poem On Mother


रचनाकार का परिचय

नवनीत कुमार

यह कविता हमें भेजी है नवनीत कुमार जी ने, गोलापकड़ीयां (मोतिहारी ) बिहार से।

“ कविता हे जन्मदात्री ” ( Kavita Hey Janmdatri ) आपको कैसी लगी ? “ कविता हे जन्मदात्री ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.