हिंदी कविता उत्कर्ष का दर्जा | Kavita Utkarsh Ka Darja

+3

आप पढ़ रहे हैं हिंदी कविता उत्कर्ष का दर्जा :-

हिंदी कविता उत्कर्ष का दर्जा

हिंदी कविता उत्कर्ष का दर्जा

गलतियां हुई थी
ये मान रहा,लेकिन
ये बात कोई समझाओ उसे…

दूर जानें की कोई एक
वजह बतलाओ तो मुझे
मै पूछता हूं लेकिन,
तुम कुछ बताती नहीं

करूँ कितनी भी कोशिश
दिल बहलाने की मगर,
तुम्हारी याद
दिल से जाती नहीं,

तुम्हारी बातो में हसी मन भावन सी थी
अंकित तो है तुमरी जिन्दगी में लेकिन
बाते उत्कर्ष की रंग सावन सी थी…

भोर हुई तुम्हारे काले बालों की छाँव में
होठों की हंसी गंगा जैसी पावन सी थी

शैतानी मैं कितनी भी कर लूँ लेकिन
उत्कर्ष की शैतानी घोड़े धावन सी थी….

लम्हों में उत्कर्ष की यादें …
उसके आगे मैं कुछ भी नहीं…
कोशिश करी कुछ उत्कर्ष करूँ लेकिन
उत्कर्ष की कोशिश मेरे ज्योंरावन सी थी…

पढ़िए :- प्यार की कविता हिंदी में | पाई जब इक झलक तेरी


रचनाकार का परिचय

अनुपम गुप्तायह कविता हमें भेजी है अनुपम गुप्ता जी ने कानपुर नगर, उत्तर प्रदेश से।

“ हिंदी कविता उत्कर्ष का दर्जा ” ( Hindi Kavita Utkarsh Ka Darja ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

+3

One Response

Leave a Reply