नए साल पर हिंदी कविता :- नया साल है आया

+2

आप पढ़ रहे हैं नए साल पर हिंदी कविता :-

नए साल पर हिंदी कविता

नए साल पर हिंदी कविता

गुलशन महका, चमन महका
महक रही हर डाली डाली,
मन की बगिया में नए फूल खिले हैं
फिजा भी चल रही है मतवाली।

साल पुराना बीत गया चाहे जैसा भी था
अब नए साल पर मनाओ सब खुशहाली,
गुलशन महका, चमन महका
महक रही हर डाली डाली।

न घबराओ खुल कर तुम मुस्काराओ
नए साल में नई खुशियांँ हैं मिलने वाली,
खेतों में फैलीं हरियाली लगती कितनी प्यारी
सरसों पर गिर रही ओस भी कितनी है निराली,
गुलशन महका, चमन महका
महक रही हर डाली डाली।

पुराना साल गया अब नया साल है आया
कोहरा छंट गया अब धूप निकलने वाली,
गुलशन महका, चमन महका
महक रही हर डाली डाली।

पढ़िए :- नया साल पर कविता | नया साल आया है


रचनाकार का परिचय

प्रीति गौतम

यह कविता हमें भेजी है प्रीति गौतम जी ने लखीमपुर खीरी, उत्तर प्रदेश (उत्तर प्रदेश) से।

“ नए साल पर हिंदी कविता ” ( Naye Saal Par Hindi Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

 

+2

One Response

  1. Avatar Ramakant chaudhary

Leave a Reply