राष्ट्रीय एकता पर कविता – चलों हम एक समझौता कर लेते हैं

0

प्रिय पाठकों,  आज की कविता है तलविंद्र कुमार जी की ” राष्ट्रीय एकता पर कविता ” चलों हम एक समझौता कर लेते हैं ” जी हाँ यहाँ समझोते से मतलब है धार्मिक तथा जाति के भेदभाव को ख़त्म कर, एकता की शक्ति बढाकर , राष्ट्रीय एकता पैदा कर , एक साथ कदम से कदम मिलाकर देश को तरक्की के मार्ग पर ले जाने से है , ताकि यह जीवन बिना किसी डर के सुचारू रूप से चल सके तो आइये पढ़ते हैं –

राष्ट्रीय एकता पर कविता

( चलों हम एक समझौता कर लेते हैं )

राष्ट्रीय एकता पर कविता - चलों हम एक समझौता कर लेते हैं

चलो अब छोड़ो तुम ये लड़ना-झगड़ना,
आओ हम मिलकर, एक समझौता कर लेते हैं
हमारे बीच सरहदें बनने पर, हम क़भी ज़ुदा हुए थे
हम ये सब भूलकर, एक-दूसरे को फ़िर से अपना लेते हैं ।
चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…

तुम हमारी गीता औऱ हम तुम्हारी कुरान पढ़ लेते हैं
तुम राम को तो हम अल्लाह को अपना ख़ुदा मान लेते हैं
हम अपने ज़िस्म से दुश्मनी का नक़ाब उतारकर,
मिलकर अब दोस्ती का सच्चा हिज़ाब पहन लेते हैं ।

चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…
तुम गीता तो हम कुरान पढ़ लेते हैं ।

हमारी जिंदगी तो बस दो पल की हैं, ये तो यू गुज़र जाएगी
आओ हम साथ मिलकर इन पलों को हसीन कर लेते हैं ।
हर पल डर के साये में रहकर जिंदगी जीना मुनासिब नहीं,
हम मिलकर हमारे मुल्कों को इस डर से आज़ाद कर लेते हैं ।

चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…
तुम गीता तो हम कुरान पढ़ लेते हैं ।

तुम दीवाली पर दिये जलाना, हम मुहर्रम पर ताज़िए सजाएंगे
तुम होली के रंग लगाना, हम ईद पर गले लगा सारे गिले-शिकवे मिटाएंगे
अपनी जिंदगी में बहुत-से ख़्वाब देखें हैं हमने,
आओ हम साथ मिलकर उन्हें पूरा कर लेते हैं ।

चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…
तुम गीता तो हम कुरान पढ़ लेते हैं ।

हमारे अपने, घरों में चैन की नींद हम ले सके
अपने बच्चों को बचपन में ही यतीम न होना पड़े,
आओ हम हमारे बीच की इस जंग को ख़त्म करके,
सरहदों को सैनिकों के पहरे से आज़ाद कर लेते हैं ।

चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…
तुम गीता तो हम कुरान पढ़ लेते हैं ।

हम फ़िर से एक दूसरे का बनकर,
इस जहां में एक नया इतिहास बना लेते हैं ।
चलों हम एक समझौता कर लेते हैं…
तुम गीता तो हम कुरान पढ़ लेते हैं ।

यह भी पढ़िए – भारत माता पर कविता – हे मां भारती शत् शत् नमन


राष्ट्रीय एकता पर कविता - चलों हम एक समझौता कर लेते हैं रचनाकार का परिचय :-

1- रचनाकार पूरा नाम :- तलविंद्र कुमार
2- पिता का नाम :- प्रभुराम जी कड़ेला
3- जन्म तारीख़ :- 20/05/1998
4- फोन नम्बर एवं वाट्सएप नम्बर :- 9549256240
5- स्थायी पता :- गाँव- डेरिया, तह.- बालेसर, जिला – जोधपुर

तो बताईये की आपको “ राष्ट्रीय एकता पर कविता – चलों हम एक समझौता कर लेते हैं ” रचना कैसी लगी ? यदि आप भी अपनी रचना हमारे साथ बाँटना चाहते हैं तो देर किसलिए उठाइये कलम ओर लिख डालिये अपने विचारों को अपने भावों में और नीचे दिए नम्बर पर एक फोटो और अपना परिचय सलंग्न करके हमें whatsapp द्वारा सूचित करें।

Mob- +919540270963
Mail ID- hindipyala@gmail.com
हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।


 

0

Leave a Reply