समय की पहचान कविता – कैसी है पहचान | Samay Ki Pahchan Kavita

राघवेंद्र सिंह जी द्वारा रचित समय की पहचान कविता

समय की पहचान कविता

समय की पहचान कविता

कैसी है पहचान तुम्हारी
कहांँ तुम्हारा बना निलय?
मुझे बताओ अश्व समय के
करना है मुझे तुम्हें विजय।

दांँव लगाने सामर्थ्य की तुम
चार पांँव से ही चल आते।
विविध रंग की राग रागिनी
के संग में तुम बल लाते।

है कितना पुरुषार्थ तुम्हारा
और कितना है प्रेम प्रणय?
मुझे बताओ अश्व समय के
करना है मुझे तुम्हें विजय।

हो सूक्ष्म या हो विशाल
या हो कोई पवन सरल?
या तुम कोई प्रस्तर हो
या हो कोई गरल गरल?

चिंतन के विस्मय पथ के
क्या तुम कोई पथिक अभय?
मुझे बताओ अश्व समय के
करना है मुझे तुम्हें विजय।

हो जागृति के दिव्य पुंँज तुम
इतना तो है मुझे ज्ञात।
तेरे आने और जाने से ही
नित होते ये दिन रात।

अब अपना अस्तित्व बता दो
तुझसे मिलना तो अब तय।
मुझे बताओ अश्व समय के
करना है मुझे तुम्हें विजय।

पढ़िए :- समय का पहिया घूम रहा | Hindi Poem On Time


रचनाकार का परिचय

राघवेंद्र सिंह

यह कविता हमें भेजी है राघवेंद्र सिंह जी ने लखनऊ, उत्तर प्रदेश से।

“ समय की पहचान कविता ” ( Samay Ki Pahchan Kavita ) आपको कैसी लगी? ” समय की पहचान कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.