यशु जान द्वारा अभिनेता ऋषि कपूर जी को श्रद्धांजलि स्वरुप रचना

2+

अभिनेता ऋषि कपूर जी को श्रद्धांजलि :- आज हमारे बीच एक संत पुरुष नहीं रहे जिनको हम श्री ऋषि कपूर जी के नाम से जानते थे , पहचानते थे। और आज भी हमें यक़ीन नहीं हो रहा कि एक ऐसा ज़िंदा दिल , आला दर्ज़े का फ़नकार एक अच्छा पिता, पति और भाई इस मुश्क़िल की घड़ी में हमें छोड़कर चला गया।

ऋषि भाई को मेरी मिलने की तमन्ना अधूरी रह गई।

हमारी ज़िन्दग़ी में हम कुछ भी कर लें हमारे मक़सद कभी पूरे नहीं हो सकते किसी ने ख़ूब लिख़ा है : –

 “मेरी तलाश इस लिए पूरी ना हुई “,
मैं ख़ुद को ढूँढ रहा था इस दुनिया में।

इस दुनिया में वैसे मौत पर किसी का भी ज़ोर नहीं है पर फ़िर भी ऋषि भाई को श्रद्धांजली देते और मैं उनको याद करते हुए और उनके परिवार के साथ पूरी हमदर्दी रखते ये शायरी उनको समर्पित करता हूँ : –

अभिनेता ऋषि कपूर जी को श्रद्धांजलि

अभिनेता ऋषि कपूर जी को श्रद्धांजलि

चंद शेऱ

दुनियां अच्छे लोग़ों से आज ख़ाली हो रही है ,
ऋषि तेरी आँख अब किस जग़ह सो रही है।

आसमान फ़ट रहा है ज़मीं आँसू बो रही है ,
पिता की लाड़ली देख़ो फ़ूट – फ़ूट रो रही है।

अभिनेता ऋषि कपूर जी को समर्पित

ग़ज़ल

अब ऐसे सताओगे क्या ,
लौटकर आओगे क्या।

जिस जग़ह जा रहे हो ,
पता हमें भी बताओगे क्या।

जाकर आवाज़ भी ना दी ,
गुस्सा ऐसे जताओगे क्या।

किस तऱह ज़िन्दा मैं रहूँ ,
थोड़ा सा समझाओगे क्या।

सिर पे मेरे हाथ रख़कर ,
मुझे बेटा बुलाओगे क्या।

हम भी सकूँ से मर सकें ,
ग़ले से लगाओगे क्या।

तेरी जो तस्वीर देखूँ मैं ,
मुझे हंसके दिखाओगे क्या।

मैंने अपनी मौत मान ली ,
अब और लिख़ाओगे क्या।

पढ़िए :- तुम याद बहुत आती हो कविता | Tum Yaad Bahut Aati Ho Kavita


यशु जानयशु जान (9 फरवरी 1994-) एक पंजाबी कवि और लेखक हैं। वे जालंधर सिटी से हैं। उनका पैतृक गाँव चक साहबू अप्प्रा शहर के पास है। उनके पिता जी का नाम रणजीत राम और माता जसविंदर कौर हैं । उन्हें बचपन से ही कला से प्यार है। उनका शौक गीत, कविता और ग़ज़ल गाना है। वे विभिन्न विषयों पर खोज करना पसंद करते हैं। वे अपनी उपलब्धियों को अपनी पत्नी श्रीमती मृदुला के प्रमुख योगदान के रूप में स्वीकार करते हैं।

“ अभिनेता ऋषि कपूर जी को श्रद्धांजलि ” के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी बेहतरीन रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

2+

One Response

  1. Avatar Sachin Sharma

Leave a Reply