बदलते रिश्ते कविता | Badalte Rishte Kavita

पढ़िए रामबृक्ष कुमार जी की ” बदलते रिश्ते कविता “

बदलते रिश्ते कविता

बदलते रिश्ते कविता

अब तो रिश्तों पर भरोसा न रहा

रिश्तों का रंग
अपनों के संग

होते हैं गाढ़े
सदा के लिए
न होते दुरंग

न होंगे
कभी भी
न बदलेंगे 
ये बनते रिश्ते,

ये पवित्र
अनमोल
सुवाच
मजबूत

भरोसे पर टिका रिश्ता न रहा,
अब तो रिस्तों पर भरोसा न रहा। 

रिश्ते,
बहनों संग पवित्र
भाइयों का बल
पिता का प्यार
मां की ममता

आत्मविश्वास
पड़ोसियों,
गैरों में
अपनेपन के

सस्ता रिश्ता अब सस्ता न रहा,
अब तो रिश्तों पर भरोसा न रहा। 

रिश्ते,
बनते हैं
बिगड़ते हैं
टूटते हैं
जुड़ते हैं

पर अब
रिश्ते,
बदलने लगे हैं

अब कोई रिश्तों का प्यासा न रहा,
तभी तो रिश्तों पर भरोसा न रहा। 

रिश्तों में
घुल रहे हैं
कड़ुआहट
चिड़चिड़ाहट

रिश्तों में
बन रही हैं 
दुरियां
मजबूरियां
बेखौफियां
अब पता नहीं क्यों!

मिठास रिश्ते की अभिलाषा न रहा,
तभी तो रिश्तों पर भरोसा न रहा। 

रिश्ते,
बदल गये
स्वार्थ में
विश्वासघात में
लालच
परिहास में
कलह
कुरंग
कर्कश 
व्यवहार में

अरे!अब 
रिश्ते का ढांढस दिलासा न रहा,
अब तो रिश्तों पर भरोसा न रहा। 

पढ़िए :- माँ बाप का दर्द कविता | मां पापा ने तो ज़िन्दगी दी


रचनाकार का परिचय

रामबृक्ष कुमार

यह कविता हमें भेजी है रामबृक्ष कुमार जी ने अम्बेडकर नगर से।

“ बदलते रिश्ते कविता ” ( Badalte Rishte Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ बदलते रिश्ते कविता ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.