बेटी पर कविता – मन की मार | Beti Par Kavita

प्रस्तुत है रामबृक्ष कुमार जी द्वारा रचित ” बेटी पर कविता – मन की मार ” :-

बेटी पर कविता – मन की मार

बेटी पर कविता - मन की मार

बन अभिशाप जगत में बेटी
मैं छिप कर क्यों जीवन जीती
किसे सुनाऊं कौन सुनेगा

किससे दिल की बात कहूं मैं?
कब तक मन की मार सहूं मैं?

मुझसे बोझिल मात-पिता क्यों?
भारू होती बढ़ती ज्यों ज्यों
क्या मेरा अधिकार नहीं कुछ!

मन को कैसे शांत करूं मैं?
कब तक मन की मार सहूं मैं?

निकल चलूं यदि तन्हा पथ पर
डर भय से तन कांपे थर थर
बेटी हूं अपराध नहीं हूं

किससे दुःख की बात करुं मैं?
कब तक मन की मार सहूं मैं?

मुझे प्यार से कहते बेटा
प्यार में हमने स्वार्थ देखा
बेटी कहा कौन बेटा को?

यह पीड़ा! स्वीकार करूं मैं
कब तक मन की मार सहूं मैं?      

एक भाग आंसू का सागर
एक भाग मुस्कान समंदर
सपनों का मरना भी तय है

फिर भी यह स्वीकार करूं मैं
कब तक मन की मार सहूं मैं। 

दोष कौन जो मारा मुझको?
काट गिराया अंग अंग को
खुली नहीं थी आंखें मेरी 

करुणा भरी गुहार करूं मैं
कब तक मन की मार सहूं मैं। 

समझा जाता मुझे पराया
मुझसे जाता नहीं भुलाया
मात पिता घर आंगन सारा

ममता छोड़ दुलार चलूं मैं
कब तक मन की मार सहूं मैं।

पढ़िए :- हिंदी कविता ” मेरी बेटी मेरा मान “


रचनाकार का परिचय

रामबृक्ष कुमार

यह कविता हमें भेजी है रामबृक्ष कुमार जी ने अम्बेडकर नगर से।

“ बेटी पर कविता – मन की मार ” ( Beti Par Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ बेटी पर कविता – मन की मार ” के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.