हिंदी कविता : ग़ज़ल की कहानी | Kavita Ghazal Ki Kahani

2+

हिंदी कविता : ग़ज़ल की कहानी

हिंदी कविता : ग़ज़ल की कहानी

वक्त की उगलती आग गज़ल,
तब होती बाग ओ बाग गज़ल।

ईरान से लेकर आई है,
भारत में ये बैराग गज़ल।

कई साल लगाते हैं शायर,
तब बनती है बेदाग़ गज़ल।

अश्कों का दरिया आंखों में,
दे जाता एक चराग गज़ल।

उर्दू की है महबूबा ये,
हिन्दी का है ये राग गज़ल।

गालिब औ फैज के लिए बना,
जिन्दगी का आधा भाग गज़ल।

छोड़ दिया, कुछ कह डाला,
मीर, दुष्यंत, फिराक़ गज़ल।

लिखी गज़ल हुए को गा बैठे,
गुलाम अली, चंदन दास गज़ल।

जगजीत सिंह ने गाया जिसे,
निदा फाजली का दिमाग गज़ल।

इतनी सच्ची, इतनी सफेद,
जैसे समुद्र की झाग गज़ल।

महबूब के लिए लड़ाई है,
महबूबा के लिए त्याग गज़ल।

कहीं मीठा शरबत बन जाए,
कहीं जहरीला ये नाग गज़ल।

कभी लाल मिर्च सी कड़वी ये,
कभी अमरूदों का बाग गज़ल।

कभी चाल मस्त हाथी की है,
कभी होती भागमभाग गज़ल।

पढ़िए :- कविता पर कविता “कविता ईश्वर की है प्रार्थना” 


डा. गुरमीत सिंहडा. गुरमीत सिंह खालसा कालेज, पटियाला ( पंजाब ) से गणित विषय में प्राध्यापक के पद आसीन हैं। आप मर्यादित और संजीदा भाव के धनी होने के साथ-साथ आप गुणीजनों और प्रबुद्धजीवी में से एक हैं। आप अपने जीवन के अति व्यस्ततम समय मे से कुछ वक्त निकाल कर, गीत और सँगीत के शौक के साथ रेख्ता, शेर-ओ-शायरी को अवश्य देते हैं। आपकी गणित विषय पर 25 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं।

“ हिंदी कविता : ग़ज़ल की कहानी ” ( Hindi Kavita Ghazal Ki Kahani ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply