हिंदी पर कविता – शब्दों की हिंदी भाषा | Hindi Par Kavita

हिंदी पर कविता

हिंदी पर कविता

हिंदी पर कविता

स्वर ध्वनि शब्दों की हिंदी भाषा
अमृत धारा सी बह रही है
रगो में शीतल सरिता सी चलकर
सांसों के सागर में बह रही है।  

अनमोल कितना मधुरमयी है 
दुनिया भी तुमको पहचानती है
तेरी प्रसंशा का राग की धुन
सुबह सवेरे खूब बज रही है। 

अरमान अभिमान सम्मान वैभव
गौरव गरिमा है देश की तू
सुन्दर मनोरम मीठी सरल है 
दिल की हर धड़कन कह रही है। 

तू विश्वव्यापी है राष्ट्र भाषा 
घर घर हो जाती मातृभाषा
तेरी शुद्धता को क्या बताऊं
किलकारियां भी बता रही है 

तेरी सुगमता तेरी सहजता
सभी को बांधी है एकता में
रसों में रम कर छंदों से बध कर
साहित्य सज धज कर कह रही है। 

व्यवहार हिंदी अधिकार हिंदी
आधार जीवन की बन गई है
विरा तुलसी रसखान बनकर
ज्ञान की गंगा सी बह रही है। 

विशाल भारत में तेरी खुशबू
महक रही है हर कोने कोने
हवा की झोंके भी गुनगुनाकर 
तेरी गरिमा को गा रही है। 

अखिल विश्व के क्षितिज धरा पर 
जन जन की भाषा तू बन चली है
उत्तर से दक्षिण पूरव से पश्चिम
सूरज सा चम चम चमक रही है। 

हिंदी को आओ पढ़ें पढ़ाएं
सहज सुबोध सरल बनाएं
बन श्रंगार देश की हिंदी
सम्मान हमारा बढ़ा रही है। 

पढ़िए :- हिंदी दिवस पर हास्य कविता | हिंदी बहुत निराली है


रचनाकार का परिचय

रामबृक्ष कुमार

यह कविता हमें भेजी है रामबृक्ष कुमार जी ने अम्बेडकर नगर से।

“ हिंदी पर कविता ” ( Hindi Par Kavita ) आपको कैसी लगी ? “ हिंदी पर कविता ” ( Hindi Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.