कविता शिक्षक दिवस पर | Kavita Shikshak Diwas Par

1+

5 सितम्बर को मनाये जाने वाले शिक्षक दिवस को सामर्पित कविता शिक्षक दिवस पर :-

कविता शिक्षक दिवस पर

कविता शिक्षक दिवस पर

दिशासूचक है जो संग रखता है अपने बुद्धिमानी
ऐसे महान शिक्षक गुरुओं को प्रणाम करती है मेरी वाणी ।

किया है हम पर जो उपकार नहीं कर सकती मै शब्दों में आभार ।
पिलाकर ज्ञान का अमृत दिया शब्दों का भंडार ।
नहीं कर सकती मै शब्दों में आभार ।

हमेशा सिखलाते प्रेम सरित व्यवहार बने दिव्य ज्योति से मेरे आधार ।
नहीं कर सकती मै शब्दों में आभार ।

दिखलाकर जीवन पथ का मार्ग मुझे खुशियां दे दी अपार ।
नहीं कर सकती मै …

हर पल देते हिम्मत साहस किया मेरे सपनो को साकार
नहीं कर सकती मै शब्दों में आभार

मात पिता गुरु से नहीं हो सकते हम उद्दार ।
नहीं कर सकती मै शब्दों में आभार ।


रचनाकार कर परिचय :-

अवस्थी कल्पनानाम – अवस्थी कल्पना
पता – इंद्रलोक हाइड्रिल कॉलोनी , कृष्णा नगर , लखनऊ
शिक्षा – एम. ए . बीएड . एम. एड

“ कविता शिक्षक दिवस पर ” ( Kavita Shikshak Diwas Par ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply