प्रेरणा देने वाली कविता – तेरे सपनों ने तुझे पुकारा | Prerna Dene Wali Kavita

2+

प्रेरणा देने वाली कविता

प्रेरणा देने वाली कविता

तेरे सपनों ने तुझे पुकारा
अन्तिम कोशिश कर लो यार ।
निर्णय लेकर कहो स्वयं से
अवसर नहीं मिलेगा वार वार ।।

जब लगती हैं आग हृदय में
मानव असंभव करता संभव ।
पुरानी गतिविधियां त्यागकर
धारण करता फिर साहस नव ।।

निकल पड़ता कठिन डगर में
कांटो का पथ करता स्वीकार ।
व्यथा से नहीं विचलित होता
स्वयं कठिनाई पर करता वार ।।

परिश्रम का शस्त्र धारण करके
अपना भाग्य स्वयं लिखता ।
संघर्षमयी मैदान में वह तो
जग के समक्ष नहीं झुकता ।।

जमाने की मांग के अनुसार
चंद सिक्कों में नहीं बिकता ।
सूरमा अति घोर विपत्ति में
किसी के रोके नहीं रुकता ।।

आलस्य जीवन से निकालकर
किताबों को अपना मित्र बना ।
तेरे एक कदम आगे आने से
मिटेगा अज्ञान का अंधेरा घना ।।

अपनी त्रुटियों से सीख कर
देता उनको मुंहतोड़ जवाब ।
मुश्किलें शीश झुका कर कहती
आप सबसे बड़े हो जनाब ।।

पढ़िए :- प्रेरक लघु कविता “पुराने विश्वासों की तोड़ जंजीरें”


नमस्कार प्रिय मित्रों,

सूरज कुमार

मेरा नाम सूरज कुरैचया है और मैं उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के सिंहपुरा गांव का रहने वाला एक छोटा सा कवि हूँ। बचपन से ही मुझे कविताएं लिखने का शौक है तथा मैं अपनी सकारात्मक सोच के माध्यम से अपने देश और समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जिससे समाज में मेरी कविताओं के माध्यम से मेरे शब्दों के माध्यम से बदलाव आए।

क्योंकि मेरा मानना है आज तक दुनिया में जितने भी बदलाव आए हैं वह अच्छी सोच तथा विचारों के माध्यम से ही आए हैं अगर हमें कुछ बदलना है तो हमें अपने विचारों को अपने शब्दों को जरूर बदलना होगा तभी हम दुनिया में हो सब कुछ बदल सकते हैं जो बदलना चाहते हैं।

“ प्रेरणा देने वाली कविता ” ( Prerna Dene Wali Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

2+

Leave a Reply