राष्ट्र प्रेम पर कविता :- राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा

1+

आप पढ़ रहे हैं राष्ट्र प्रेम पर कविता :-

राष्ट्र प्रेम पर कविता

राष्ट्र प्रेम पर कविता

पल भर मुझ में आलस ना हो – मन में हो यह भावना !!
राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा – जगती रहे सदभावना !!

हम पुरुषार्थ के धनी बनें नित , कर्म से कौशल दिखलावें,
प्रार्थना का भाव हो मन में, जीवन धन्य बना जावें,
हो चरित्र निर्माण हमारा – जीवन की संकल्पना,
राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा – जगती रहे सदभावना !!

कर्म शक्ति से ज्ञान को पावें, और सदाचारी बनें,
और कपट छल द्वेष दूर कर, सबके हितकारी बनें,
तन मन जीवन सब मंगल हो – योग की हो प्रस्थापना !!
राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा – जगती रहे सदभावना !!

हम अच्छाई के राही हैं, राहें हमें बनाना है,
सत्पुरुषों के पद चिन्हों पर, निशदिन चलते जाना है,
हम जागेंगे देश जगेगा – यह ईश्वर से प्रार्थना  !!
राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा – जगती रहे सदभावना !!

नित्य नए संकल्प करें हम, संकल्पों से हो सिद्धि,
और निरंतर इस जीवन में, निशदिन आए समृद्धि,
सदाचार व्यवहार में हो नित – आदर्शों की स्थापना !!
राष्ट्र निर्मिति ध्येय हमारा – जगती रहे सदभावना !!

पढ़िए :- राष्ट्रीय एकता पर कविता | चलों हम एक समझौता कर लेते हैं


रचनाकार  का परिचय

जितेंद्र कुमार यादव

नाम – जितेंद्र कुमार यादव

धाम – अतरौरा केराकत जौनपुर उत्तरप्रदेश

स्थाई धाम – जोगेश्वरी पश्चिम मुंबई

शिक्षा – स्नातक

“ राष्ट्र प्रेम पर कविता ” ( Rashtra Prem Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

1+

Leave a Reply