प्रयास पर कविता | Prayas Par Kavita

आप पढ़ रहे हैं प्रयास पर कविता :-

प्रयास पर कविता

प्रयास पर कविता

जीवन की भुलभुलैया में
बहुत हुआ मुझको अनुभव।
गिर गिरकर खड़ा हुआ मै
तब मिला सफलता का पथ नव।।

प्रत्येक मोड़ पर हर मार्ग में
मुश्किलें बांहे फैलाए खड़ी थी।
दूर से लग रही थी तिनके सी
गया समक्ष पहाड़ सी बड़ी थी।।

पर मै भी नहीं साहस हारा
झोंक दिया सम्पूर्ण प्रयास।
चट्टानों ने देखा मानव संकल्प
खोया उसने क्षण में विश्वास।।

प्रखर गुण है अदभुद अनेक
झुपे पड़े मानव के अन्दर।
झांकता जब अपने अंतर्मन में
निकलता खजाना सा समन्दर।।

विपरीत परिस्थितियों आयेगी
करने मानव तुझको भयभीत।
हंसकर अगर तू करेगा पार
शीघ्र तेरे निकट आयेगी जीत।।

सफलता का मार्ग सहज नहीं
शेष लोग इसको करते प्राप्त।
आलस में जो समय गवाता
सुखद क्षण हो जाते समाप्त।।

निरंतर तुम चलते रहो सखा
जगत की है अमूल्य सीख।
आज नहीं अगर तू समझा
तो कल मांगनी पड़ेगी भीख।।

पढ़िए :- दो जून की रोटी कविता | रोटी के महत्व पर कविता


नमस्कार प्रिय मित्रों,

सूरज कुमार

मेरा नाम सूरज कुरैचया है और मैं उत्तर प्रदेश के झांसी जिले के सिंहपुरा गांव का रहने वाला एक छोटा सा कवि हूँ। बचपन से ही मुझे कविताएं लिखने का शौक है तथा मैं अपनी सकारात्मक सोच के माध्यम से अपने देश और समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जिससे समाज में मेरी कविताओं के माध्यम से मेरे शब्दों के माध्यम से बदलाव आए।

क्योंकि मेरा मानना है आज तक दुनिया में जितने भी बदलाव आए हैं वह अच्छी सोच तथा विचारों के माध्यम से ही आए हैं अगर हमें कुछ बदलना है तो हमें अपने विचारों को अपने शब्दों को जरूर बदलना होगा तभी हम दुनिया में हो सब कुछ बदल सकते हैं जो बदलना चाहते हैं।

“ प्रयास पर कविता ” ( Prayas Par Kavita ) के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ hindipyala@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

हम करेंगे आपकी प्रतिभाओं का सम्मान और देंगे आपको एक नया मंच।

धन्यवाद।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.